Chanakya Niti in hindi: इन 8 चीजों से कभी ना शर्मायें

According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things

आचार्य चाणक्य की नीतियां आपको भले ही बहुत कठोर लगें लेकिन उनकी इन कठोर बातों में ही जीवन का सार छिपा है। उन्होंने Chanakya Niti के माध्यम से कई सारी चीजें जीवन से जुड़ी बताई हैं लेकिन हम उन्हें नजरअंदाज करते रहते हैं जिनका खामियाजा भी हमें खुद ही उठाना पड़ता है और कभी-कभी हमें लगता है कि जो भी बातें Chanakya ने बताई हैं, वो कहीं न कहीं बहुत हद तक सही हैं।

According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things: उनके ये अनमोल वचन आपके जीवन को और भी बेहतर बनाने में आपकी मदद करते हैं।  Chanakya Niti से कुछ ऐसी 8 बातें को बताने वाला हूँ जिसे व्‍यक्ति को कभी भी शर्माना नहीं चाहिए।

आज के समय में हर इंसान किसी न किसी बातों को लेकर शर्म महसूस करते हैं जिसके वजह से उन्‍हें कठिनाइयों का सामना करना परता हैं। और वो इंसान खुल कर नहीं जी पाते हैं।

चलिए जानते हैं वो 8 चीजों के बारें में-

According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things

1. पुराने कपड़ा पहनने में

ज्यादातर लोगों में देखा गया है कि वो पुराने कपड़ा पहनने में शर्म महसूस करते हैं। Chanakya का कहने का मतलब ये हैं कि लोग एक बार जीस कपड़ा का इस्‍तेमाल कर चुके होते हैं उसका इस्‍तेमाल बार बार नहीं करना पसंद करते हैं।

कई बार लोग पुराने कपड़े पहनकर सभाओं में जाना पसंद नहीं करते।

उन्हें ऐसा लगता है कि इस तरह अगर पुराने कपड़ों में उन्हें लोगों ने देखा तो क्या कहेंगे? अगर आप इस तरह की सोच वाले व्यक्ति हैं तो इस तरह की सोच को जल्द से जल्द बदल लीजिए। कपड़े चाहे जैसे भी हों नए या पुराने आपके तन को ढंकते हैं और उसे किस तरह पहना गया है, ये सब कुछ उस पर निर्भर करता है। पुराने कपड़े होने से कोई फर्क नहीं फरता हैं, “हाँ” कोशिश करे कि कपड़ें साफ सुथरा होने चाहिए।

2. गरीब दोस्‍तों को अपना कहने में

अगर आपका कोई दोस्‍त गरीब है तो उसे अपना कहने में आपको कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए।

फर्क ये पड़ना चाहिए कि वो दोस्‍त आपका कितना सच्चा मित्र है क्यूंकि सच्चे दोस्त बड़ी मुश्किलों से मिला करते हैं।

चाण्‍क्‍य कहते हैं यदि आपका दोस्‍त आपसे गरीब हैं तो उनका सम्मान कीजिए और दुनिया के सामने खुलकर उन्हें स्वीकारे। उसे किसी के सामने अपना कहने में संकोच ना करें। जैसे श्रीकृष्ण ने सुदामा को अपना दोस्‍त कहने में कभी भी शर्म महसूस नहीं किये। भगवान श्रीकृष्ण से आपको सीखना चाहिए। किसी भी इंसान को परखने के लिए ये हैं 4 तरीके 

3. बूढ़े माता-पिता को लोगों के सामने अपना कहने में

अगर आपके माता-पिता बूढ़े हैं तो इसमें शर्मिंदगी महसूस नहीं होनी चाहिए। उन्हें अपने जीवन की सबसे बड़ी पूंजी मानना चाहिए।

कई बार लोग अपने बुढ़े माता-पिता को दुसरे के सामने नहीं लाते हैं क्‍योंकि उन्‍हें शर्म लगता हैं कि उनके दोस्‍त क्‍या कहेगें। कई बार तो लोग अपने माता-पिता को बाहर पार्टी में या खाना खाने के लिए नहीं ले जाते हैं क्‍योंकि उन्‍हें शर्मिदा महसूस होती हैं आज के जामाने के साथ।

चाण्‍क्‍य कहते हैं की अपने माता-पिता को प्यार और सम्मान देने में शर्माना नहीं चाहिए। क्‍योंकि आज हम सब जो भी कुछ हैं उनकी वजह से ही हैं। उनके बूढ़े होने से उनके मान-सम्मान में कोई भी फर्क नहीं आना चाहिए।

4. दुसरे के सादे रहन-सहन अपनाने में

अगर किसी का रहन-सहन आपके जैसा नहीं है यानी कि अगर वो आपसे रहन-सहन के मामले में कम भी है तो इसका मतलब ये कतई नहीं है कि उससे आप दूर भागने लगें। हर व्यक्ति का रहन-सहन अपने हिसाब से होता है।

अगर आप इन चारों चीजों में अभी तक आप शर्म महसूस करते हैं तो इसका जल्द से जल्द त्याग कर दीजिए। वर्णा आप आगे बढ़ने में पीछे रह सकते हैं।

According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things

दोस्‍तों अब मैं बाकी के जो 4 बातें बताने वाला हूँ उसमें ज्‍यदातर लोग शर्म महसूस करते हैं, क्‍योंकि इन चार चीजों को अपनाने में खुद की बेजती महसूस करते हैं। उन्‍हें ये लगता हैं कि इन चीजों से उनका Self Status कम हो सकता हैं।  यदि आप इन चार चीजों से शर्माते हैं तो आपका बहुत नुकसान हो सकता हैं।

चालिए जानते हैं वो Next 4 चीजें क्‍या है..

5. धन संबंधी मामलों में न शर्माएं

धन संबंधित कार्य करने में व्यक्ति को कभी भी शर्माना नहीं चाहिए अगर ऐसा होता है तो इससे आपके धन की हानि हो सकती है।

चणक्‍य का कहने का मतलब ये हैं कि यदि किसी के पास आपका रूपय बाकी हैं या उससे लेने हैं तो अपने धन को मांगने में शर्म महसूस नहीं करना चाहिए। इससे आपका ही नुकसान हो सकता हैं। 7 Best Rules of Money | Financial Freedom बनने के 7 नियम

6. ज्ञान लेने में शर्म नहीं करनी चाहिए

आचार्य Chanakya ने कहा है कि कभी भी तरह का ज्ञान लेने में शर्म नहीं करनी चाहिए। अगर आप ज्ञान लेते हैं तो इसी के बूते आप अपने भविष्य को मजबूत करते हैं। अगर आपको अपने शिक्षक की कोई भी बात या प्रश्न नहीं समझ आ रहा तो उसे बिना हिचकिचाहट के उनसे पूछ लेना चाहिए, उसमें देरी नहीं करनी चाहिए।

7. खाने-पीने की चीजों में

खाने-पीने की चीजों में कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए। अगर आपको भूख लगती है और शर्म की वजह से आप खाना नहीं खा रहे हैं तो ऐसा बिल्कुल भी न करें क्यूंकि इससे हानि आपकी ही है। इसलिए आपको खाने-पीने के चीजों में कभी भी नहीं शर्म महसूस नहीं करना चाहिए।

8. काम-धंधे करने में

आखिर में चाणक्य ने कहा है कि काम-धंधे में किसी तरह से शर्म नहीं करनी चाहिए। कोई भी काम छोटा नहीं होता हैं, सिर्फ फर्क ये हैं कि आप अपने काम को किस तरीके से करते हैं। इस पर निर्भर करता हैं।

यदि आप जो भी काम करते हैं, अगर उसमें कहीं आप फंसते हैं या कुछ समझ नहीं आता है तो आपको बेझिझक पूछना चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो इससे आपका ही नुकसान होता है।

दोस्‍तों! ये लेख  According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things आपको कैसा लगा? यदि यह लेख Chanakya Niti आपको अच्‍छा लगा तो आप इस हिंदी लेख को Social media Share कर सकते हैं। आपकी एक Share किसी की Life बदल सकती हैं।

इसके अतिरिक्‍त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें Email भी कर सकते हैं। आप हमारे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते हैं।

ये भी पढ़ें:-



सफलता के लिए पता होना चाहिए ये 7 बातें 

कोरोना काल में Online पैसे कैसे कमाएं without Investment

जानिए अपनी शादी को लेकर जया किशोरी जी क्या सोचती हैं

चाणक्य कहते हैं यदि सफलता चाहिए तो इस हद तक बुड़े बनाें

सफलता चाहिए तो इन 8 चीजों का कर दें त्याग

ये 4 बातें ही तय करती हैं कि आपको सफलता मिलेगी या नहीं

बनना चाहते हैं अमीर और घर में नहीं टिकता है धन तो जान लीजिए ये 6 जरूरी बातें

According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things

According to Chanakya Niti Never be shy with these 8 things

Leave a Reply

advertisement
close