जब भी हिम्मत टूटे, तो ये कहानी आपके लिए हैं | Inspirational Story on Inner Hidden Power

Inspirational Story on Inner Hidden Power

Inspirational Story on Inner Hidden Power: अपनी मंजिल पर पहुंचने से पहले अगर हम हार मान ले रहे हैं, तो हम सचमुच हार गए। लेकिन अपनी मंजिल के लिए जब जूझते हैं, बार-बार गिर कर खड़े होते हैं तो हमारा Self Confidence कई गुना बढ़ जाता है। इसके बाद जब हमें मंजिल मिलती है, तो उसकी खुशी कई गुना बढ़ जाती है।

इसलिए आपकी जीत या हार को कोई और तय नहीं कर सकता है। यह खुद हमारे ऊपर निर्भर करता है। चलिए इसे एक कहानी (Inspirational Story on Inner Hidden Power) के माध्‍यम से समझते हैं:-

आपके अंदर कि छिपी हुई शक्तियां
Inspirational Story on Inner Hidden Power

एक शहर में मोहन नाम का एक लड़का रहता था। जो जीवन में हार मान चुका था। वह जिंदगी में जो कुछ भी करता था, उसको अपनी हार पहले ही नजर आ जाती थी। स्कूल में अध्यापक और अन्य विद्यार्थी भी उसकी मजाक उड़ाते थे।

जिसके वजह से वो खुद को अकेला महसुस करने लगा था। ज्‍यादातर वह अंधेरे कमरे में अक्सर रोता रहता था।

एक दिन उसकी सिसकियां सुनकर एक अंधा आदमी उसके पास आया और
पूछा:- ‘तुम क्यों रो रहे हो’?

मोहन ने उस आदमी को अपनी सारी बात बताई। यह सुनकर वह आदमी जोर-जोर से हंसा और बोला:- तुम्हें पता है, “जब मैं पैदा हुआ और लोगों ने देखा कि इस बच्चे की तो आंखें ही नहीं है, तो उन्होंने मेरे माता-पिता को मुझे मार देने की सलाह दी”। लेकिन मेरे माता-पिता ने उन लोगों की सलाह नहीं मानी।

उन्होंने मुझे एक विशेष स्कूल में भेजा और  मुझे पढ़ाया-लिखाया। जब मैं College में Admission लेने गया तो College प्रशासन ने मेरा Admission करने से मना कर दिया। फिर मैंने विदेशी विश्वविद्यालय का फॉर्म भरा और एमआईटी की स्कॉलरशिप पर ग्रैजुएशन और पोस्ट ग्रैजुएशन की डिग्री ली।

Inspirational Story on Inner Hidden Power

लेकिन जब मैं वापस आया तो फिर मुझे महसूस हुआ कि नेत्रहीन होने के कारण मुझे कोई नौकरी नहीं देना चाहता। फिर मैंने अपनी कंपनी शुरू की इसलिए नहीं कि मेरे पास बहुत पैसा था या मेरे पास कोई अनोखा आईडिया था। मैंने कंपनी इसलिए शुरू की क्योंकि मेरे पास और कोई चारा ही नहीं था।

लेकिन आज मुझे खुशी है कि आज मैं अपनी कंपनी के जरिए मेरे जैसे 5000 लोगों को नौकरी दे पाया हूं।

आदमी की बात को सुनकर मोहन ने पूछा आप की कहानी से मेरा क्या वास्ता? वह आदमी बोला:- जैसे आज लोग तुम्हारी हंसी उड़ाते हैं, वैसे ही जिंदगी भर लोगों ने मेरी भी निंदा की, मेरा भी मजाक उड़ाया। लेकिन मैंने खुद को कभी कमजोर नहीं समझा। अकेले रहने वाले लोगो में होते हैं ये 9 गुण

जब दुनिया मुझे नीची नजरों से देखती थी और यह कहती थी कि तुम जिंदगी में कुछ नहीं कर सकते। तब मैं उनकी आंखों में आंखें डाल कर बोलता था कि मैं कुछ भी कर सकता हूं। जैसे मैंने इतना सब कुछ किया वैसे ही तुम भी बहुत कुछ कर सकते हो। इसलिए हिम्मत मत हारो। दुनिया क्या कहती है, इस बात की परवाह मत करो।

दोस्‍तों इस वक्‍त हमें एक कहावत याद आ रही हैं जो मैं आपको बताना चाहता हूँ।
ये कहावत हैं…

जब जब मंजिल ने हैसलो से कहा,
तेरे बस कि बात नहीं
हौसलो ने मंजिल कि आखों में आखे डाल कर कहा
चल झुटी तेरी इतनी औकात नहीं!

(जब आपका हिम्‍मत टूटने लगे तो मन ही मन इसे जरूर दोहराना)

Moral of the Story:-

  • दुनिया आपको कैसे देखती है यह महत्वपूर्ण नहीं है, लेकिन आप खुद को कैसे देखते हैं, यह सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है।
  • जीवन में जीत और हार आपकी सोच पर ही निर्भर करती है, मान लो तो हार है और ठान लो तो जीत है।

दोस्‍तों! ये लेख Inspirational Story on Inner Hidden Power आपको कैसा लगा? यदि यह Hindi Article आपको अच्‍छा लगा तो आप इस Story को Share कर सकते हैं ता‍कि सबको फायदा हो सके।

इसके अतिरिक्‍त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें Email भी कर सकते हैं। आप हमारे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते हैं… धन्‍यवाद!

ये भी पढ़ें:- 




Success के लिए Life में Mentor का क्या Role हैं

सफल लोगों की सुबह की 6 आदतें

दुनिया से हटकर काम कैसे करें ?

Success Story of IAS Topper Pradeep Kumar Dwivedi- UPSC 2018

11 Chanakya Niti Hindi for Success | चाणक्य के रहस्य

सफलता के लिए रिस्क लेना हैं जरुरी!

Network Marketing में सफल होने के 5 नियम | Direct Selling Business Success Key

ये 4 बातें ही तय करती हैं कि आपको सफलता मिलेगी या नहीं?

Leave a Reply

close