Tokyo Olympics 2020: 23 साल के नीरज चोपड़ा ने एथलेटिक्स में भारत को दिलाया पहला Gold Medal

neeraj chopra gold medal

Neeraj Chopra Gold Medal: भारत के एथलीट 23 साल के नीरज चोपड़ा ने Tokyo Olympics में इतिहास रचा दिया है। नीरज ने जैवलिन थ्रो प्रतियोगिता में कमाल का Performance करते हुए भारत को पहला Gold Medal दिला दिया है।

Tokyo Olympics के इतिहास में यह पहली बार हुआ है जब भारत को एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल जीता था। इस मेडल जीत के साथ ही Tokyo Olympics में भारत के खाते में 7 ओलंपिक आए हैं जिससे एक रिकॉर्ड बन गया है. ओलंपिक में पहली बार भारत को 7 मेडल मिले हैं।

Neeraj Chopra Gold Medal full Profile and Create History

नीरज चोपड़ा ने रचा इतिहास

Qualifying round की तरह ही नीरज का प्रदर्शन Final में भी बेहद शानदार रहा और उन्होंने एथलेक्टिक्स में मेडल के 100 साल के सफर को भी खत्म कर दिया है। नीरज ने फाइनल मैच में अपना पहला ही थ्रो 87.03 मीटर का फेंका और गोल्ड की उम्मीद जगा दी। इसके बाद दूसरे प्रयास में नीरज ने 87.58 मीटर का थ्रो फेंककर Gold Medal पक्का कर लिया। 

नीरज चोपड़ा ने इससे पहले Qualifying round में भी अपने प्रदर्शन से सनसनी फैला दी थी। उन्होंने Top पर रहते हुए पहले ही प्रयास में 86.65 मीटर का थ्रो फेंका था और 83.65 के Qualification  Level को आसानी से पार कर लिया था।

नीरज इससे पहले एशियाई खेलों, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई चैंपियनशिप में भी Gold Medal अपने नाम कर चुके हैं और यही वजह है कि पूरा देश की निगाहें उनके ऊपर टिकी हुईं थीं। टोक्यो ओलंपिक में यह भारत का पहला गोल्ड मेडल है और अब पदकों की कुल संख्या 7 हो गई है, जिसमें 1 Gold, 2 Silver और 4 Bronze Medal शामिल हैं।

neeraj chopra gold medal

रेसलिंग में बजरंग पूनिया ने कजाखस्तान के दौलेत नियाजबेकोव को एकतरफा मुकाबले में हराकर ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया।

नीरज भारत की तरफ से Olympics खेलों में Gold Medal जीतने वाले महज दूसरे ही खिलाड़ी हैं। उनसे पहले साल 2008  में अभिनव ब्रिंदा ने निशानेबाजी में भारत को Gold Medal दिलाया था।

एथलेटिक्स में यह ओलंपिक खेलों में भारत का पहला गोल्ड मेडल है और इसके साथ ही 23 साल के नीरज चोपड़ा ने इतिहास रच दिया है। नीरज ने अपने पहले दो थ्रो में ही Gold Medal पक्का कर लिया था। बाकी एथलीटों ने काफी प्रयास किया, लेकिन वह नीरज के 87.58 मीटर के थ्रो को पार नहीं कर सके। Neeraj Chopra Gold Medal 

नीरज पर होने लगी करोड़ों की बारिश

नीरज चोपड़ा ने Olympics में Gold Medal जीतकर देश का सीना गर्व से चौड़ा कर दिया। इसके लिए उन्हें जितने भी इनामों से नवाजा जाए वो कम ही होगा। इस बीच हरियाणा सरकार ने उनपर इनामों की बरसात कर दी। खुद सीएम मनोहर लाल खट्टर ने इनामों की घोषणा की। Neeraj Chopra Gold Medal 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नीरज चोपड़ा के जैवलिन थ्रो में Gold Medal जीतने पर कहा कि ‘जिस प्रकार से आज हमने प्रत्यक्ष मैच देखा, ये बहुत खुशी का पल है. ये बहुत बड़ी उपलब्धि है, देश के लिए उपलब्धि है, हरियाणा के लिए उपलब्धि है। “उन्हें 6 करोड़ रुपये और क्लास-1 की नौकरी दी जाएगी।”

सीएम मनोहर लाल खट्टर ने ये भी कहा कि ‘टोक्यो में हरियाणा के छोरे ने लठ गाड़ दिया और भाले वाला लठ गाड़ दिया। अपेक्षा के अनुरूप हमें Gold Medal मिला । नौकरी में भी हमारी ऑफर रहेगी कि पंचकूला में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर एथलेटिक्स बनाएंगे और उसमें उसे (नीरज चोपड़ा) हेड बनाएंगे।

एक किसान परिवार से आते हैं नीरज

नीरज चोपड़ा हरियाणा के पानीपत जिले के खांद्रा गांव से आते हैं।  उनका जन्म 24 दिसंबर 1997 को हुआ था। उनके पिता सतीश कुमार किसान हैं। खेतीबाड़ी से घर परिवार का खर्च चलता था।

नीजर चोपड़ा की पढ़ाई

नीरज ने स्कूली शिक्षा चंडीगढ़ से पूरी की है। इन्हें पढ़ाई के साथ पिता और चाचा के साथ खेत पर जाकर उनके साथ काम करना पसंद था। नीरज चोपड़ा के मौजूदा कोच ओऊ हॉन हैं। नीरज चोपड़ा हफ्ते में छह दिन, छह घंटे ट्रेनिंग करते हैं।

उन्होंने 2016 में पोलैंड में हुए IAAF वर्ल्ड U-20 चैम्पियनशिप में 86.48 मीटर दूर भाला फेंककर गोल्ड जीता था, जिसके बाद उन्हें आर्मी में जूनियर कमिशन्ड ऑफिसर के तौर पर नौकरी मिल गई। Neeraj Chopra Gold Medal 

नीरज चोपड़ा का जैवलिन थ्रोअर बनने का सफर

नीरज चोपड़ा को पहले जैवलिन थ्रो का शौक नहीं था। वो बचपन में काफी मोटे हुआ करते थे और 11 साल की उम्र में घरवालों ने मोटापे को कम करने के लिए उन्हें खेलने के लिए कहा, पानीपत के Shivaji Stadium में नीरज चोपड़ा खेलने के लिए जाने लगे।

वहां उन्होंने Stadium में जेवलिन थ्रो की Practice करते हुए खिलाड़ियों को देखा। जिसके बाद उनका मन इस खेल में आ गया। यहीं से नीरज चोपड़ा के जीवन में जेवलिन थ्रो की Entry हुई।

Gold Medal जीतने तक की जबर्दस्त मेहनत

नीरज चोपड़ा की पहली यादगार जीत 2012 में लखनऊ में नेशनल Junior Championship में आई थी। उस Tournament में नीरज चोपड़ा ने अंडर-16 स्पर्धा में 68.46m भाला फेंककर राष्ट्रीय उम्र-समूह Record बनाया था और स्वर्ण पदक जीता!  2013 National Youth Championship में नीरज ने एक बार फिर शानदार प्रदर्शन किया! उन्होंने दूसरा स्थान हासिल करते हुए उस वर्ष यूक्रेन में होने वाली IAAF World Youth Championship में जगह पक्की की।

neeraj chopra gold medal

All-India Inter-University Championship में नीरज चोपड़ा ने साल 2015 में 81.04m भाला फेंककर इस एज ग्रुप का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया! नीरज चोपड़ा साल 2016 में उस वक्त हाईलाइट हुए थे, जब उन्होंने जूनियर विश्व चैंपियनशिप में 86.48 मीटर भाला फेंककर विश्व रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था! 2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ खेलों में नीरज ने 86.47 मीटर भाला फेंका और गोल्ड मेडल अपने नाम किया!

इसके अलावा एशियन गेम्स 2018 में नीरज ने अपना बेस्ट प्रदर्शन करते हुए 88.06 मीटर भाला फेंका और जेवलिन थ्रो में पहला गोल्ड भारत को दिलाया! Neeraj Chopra Gold Medal 

टोक्यो में इन भारतीय खिलाड़ियों का जलवा रहा

नीरज चोपड़ा ने जीता गोल्ड

बजरंजग पूनिया ने जीता ब्रॉन्ज

वेटलिफ्टिंग में भारत की मीराबाई चानू ने जीता सिल्वर मेडल

कुश्ती में रवि दहिया ने जीता सिल्वर मेडल

बैडमिंटन में पीवी सिंधु ने जीता ब्रॉन्ज मेडल

भारतीय पुरूष हॉकी टीम ने जीता ब्रॉन्ज मेडल

ये भी पढ़ें:- 

खुद को Motivate कैसे रखें | Motivational Story on Self Motivation

सफलता एक न एक दिन जरूर मिलेगी | Best Motivational Story on Success

जब भी हिम्मत टूटे, तो ये कहानी आपके लिए हैं

सफलता चाहिए तो इन 8 चीजों का कर दें त्याग

Leave a Reply

advertisement
close