Success story in hindi | जो होता हैं अच्छे के लिए होता हैं

Inspirational Success story in hindi

Success story in hindiSuccess story in hindi

दोस्‍तों मैं आज एक ऐसे Success story in hindi में बताने वाला हूँ जिसमे आपको पता चलेगा की Life भी जो भी होता हैं अच्‍छे के लिए होता हैं शायद ये बात का आप विश्‍वास करे या ना करे But 70% cases में सही Proof होता हैं।

चलिए जानते हैं इस Success story in hindi से….

भगवान हमें वो नहीं देता जो हमें चाहिए होता है,
वह हमें वो देता है जो हमारे लिए अच्छा होता हैं।

Popular article आपको पढ़ना चाहिए- बेस्ट 5 पढ़ाई में मन लगाने के तरीके | How to Concentrate on Studies Tips in Hindi

ये हैं एक मंदिर की कहानी!

एक मंदिर जिसमें सभी लोग पगार पर काम करते थे। चाहे वो आरती वाला हो या पूजा करने वाला हो या मंदिर का घंटा बजाने वाला।

मंदिर का घंटा बजाने वाला जो इंसान था, वह आरती के समय भगवान के भक्ति में ऐसे लीन हो जाता था कि मानो को एकदम घंटा बजाने के धुन में घुस चुका हो।

Success story in hindiSuccess story in hindi

और ऐसे रूप में लोग उसे देखना पसंद करते थे क्योंकि उसे देखना लोगो को अच्छा लगता था।

उस मंदिर में जो कोई भी दर्शन के लिए आता, वो इसकी भक्ति के दर्शन भी जरूर करता था।

एक दिन मंदिर के ट्रस्टी ने एक Decision लिया कि मंदिर में वही लोग काम करेंगे जो पढ़े लिखे हैं, जो अनपढ़ है उन्हें नौकरी से निकाल दिया जाएगा।

अगले दिन मंदिर के Trusty ने उन सारे लोगों को बुलाया जो पढ़े लीखे नहीं थे। इन अनपढ़ में वो घंटा बजाने वाला लड़का भी सामिल था, जिसका नाम अर्जुन था।

मंदिर के Trusty ने अर्जुन से कहा- अर्जुन! तुम कल आ कर अपना पगार ले लेना और तुम्‍हे अब मंदिर में आने कि जरूरत नहीं हैं।

क्‍योंकि तुम्हारे काम की जरूरत नहीं है इस मंदिर में। अर्जुन ने कहा, आप मेरी पढ़ाई लिखाई देख रहे हैं। मेरी भक्ति को नहीं देख रहे हैं। मैं कितने मन से अपने काम को करता हूँ।

ये भी पढ़े:- बुरे समय में घबड़ाये नहीं | Story on Success in hindi

 मंदिर के Trusty ने एक नहीं सुनी है।

अगले ही दिन से जो लोग मंदिर में आते थे, वह आरती के समय पर उन्हें आरती में इतना आनंद नहीं आता था। उस घंटा बजाने वाले अर्जुन की कमी बहुत खल रही थी।

मंदिर के कुछ लोगों ने Decide किया कि क्‍यों न अर्जुन को केवल घंटा बजाने के लिए बुलाया जाए । यह सोच कर सारे लोग उसके घर पर पहुंचे और उसे इतना कहा कि आरती के वक्त तुम केवल घंटी बजाने आ जाया करना।

अर्जुन ने कहा कि मैं यह नहीं कर सकता क्योंकि Trusty को ये लगेगा कि मैं लालची हूँ और काम की तलाश में ही फिर से मंदिर में आ रहा हूँ।

ये भी पढ़े:- हमेशा खुश रहने के 5 Secrets How to be Happy

तो सभी लोग ने मिलकर एक तोड़ निकाला कि तुम मंदिर के ठीक सामने एक दुकान खोल लो और कहा कि तुम पूरे दिन वहां पर काम करना और सिर्फ आरती के समय पर घंटी बजाने के लिए आ जाया करना।

किसी को महसूस भी नहीं होगा कि तुम पैसो कि लालच में घंटा बजाने के लिए आते हो। तुम्‍हारा खुद का  रोजगार भी हो जाएगा और तुम मंदिर में दर्शन करने भी आ जाया करना।

और यही हुआ मंदिर के ठीक सामने एक दुकान खोल दी गई और  ऊपर वाले की दया से एक दुकान क्या अनेक दुकानों का मालिक बन गया और आगे चलके अर्जुन ने एक Factory भी खोली।

और वो बड़ी सी गाड़ी में से चला करता फिर भी आरती के ठीक समय पर मंदिर में घंटा बजाने के लिए पहुंच जाया करता।

Related Read:- समय का महत्व | Importance of time management in hindi

काफी साल बीत चुके थे।

मंदिर के Trusty भी बदल चुके थे। अब मंदिर के  Renovation की जरूरत थी। नये Trusty को महसूस हुआ कि 11 लाख रूपये कम पर रहे हैं जो और भी मंदिर में लगेंगे। लेकिन उसे पैसे की अरेंज नहीं हो पा रहा था। इतना पैसा कहां से आएगा।

नये Trusty ने देखा कि मंदिर के ठिक सामने एक Factory हैं क्‍योंकि न Factory के मालिक से ही Donation मांगा जाय।

जैसी ट्रस्टी ने उस फैक्ट्री के मालिक से कहा कि इस मंदिर के Renovation के लिए 11 लाख रूपये की जरूरत है।

तो वैसे ही फैक्ट्री के मालिक ने अपने manager को 11 लाख रूपये का चेक Ready करने को कहा।

और कहा कि मैं इस पर अंगूठा लगाकर बैंक जाकर पैसे लाकर मैं आपको दे दूंगा।

ये भी पढ़े:- Paisa kaise kamaye | पैसे कमाने के लिए क्या करें?

सामने बैठे सभी लोग Socked हो गए। उन्होंने पूछा कि इतने बड़े Factory का मालिक होकर भी आप पढ़े लिखे नहीं हैं।

तो पता है उस फैक्ट्री के मालिक ने क्या जवाब दिया?

यदि मैं पढ़ा लिखा होता तो आज मंदिर में मैं घंटा बजा रहा होता।

पढ़ा लिखा नहीं हूँ तभी इस मुकाम पर पहुंच चुका हूँ। वह करवाता गया। मैं करता गया, सब ऊपर वाले की लीला है।

Moral of the Story

दोस्‍तों हमें जब लगता हैं कि उपर वाला मेरे साथ बहुत बुड़ा कर रहा हैं, उस समय हमें Patience रखना चाहिए क्‍योंकि जिंदगी में जो होता हैं अच्‍छे के लिए होता हैं।

मैने अपने लाइफ में महसुस किया हैं जब भी मेरे साथ गलत हुआ हैं तब कही न कही हमें उसका Future में benefit मिला हैं। दोस्‍तों हमें उस समय पता नहीं चल पाता हैं कि आखीर क्‍या हो रहा हैं But बाद में उसका मतलब समझ में आता हैं।

इसलिए आप बुड़े समय में घबड़ाये नहीं अपना काम करते रहें

क्योंकि भगवान हमें वो नहीं देता जो हमें चाहिए होता है,
वह हमें वो देता है जो हमारे लिए अच्छा होता हैं।

दोस्‍तों! ये लेख Success story in hindi आपको कैसा लगा? यदि यह Hindi Article on “which can change your Life” आपको अच्‍छा लगा तो आप इस हिंदी लेख को Share कर सकते हैं।

Also Recommend to Success Story in Hindi

इसके अतिरिक्‍त आप अपना Comment दे सकते हैं और हमें Email भी कर सकते हैं। आप हमारे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते हैं।

यदि आपके पास Hindi में कोई Article, Inspiring story, Life Tips, Inspiring Poem, Hindi Quotes, Money Tips या कोई और जानकारी हैं और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-mail करें। हमारी E-mail Id हैं- [email protected] यदि आपकी Post हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और Photo के साथ अपने Blog पर Publish करेंगे….धन्‍यवाद!

Leave a Reply

close